-->

Search Bar

Mutual Inductance In Hindi:-परिभाषा ,सर्किट तथा फार्मूला - हिंदी इलेक्ट्रिकल डायरी

Post a Comment

 Mutual inductance क्या होता है?

जब दो Coil को एक दुसरे के नजदीक रखकर और उसमे से किसी एक coil में AC विधुत धारा प्रवाहित किया जाता है तो उस Coil में एक चुंबकीय क्षेत्र उत्पन्न हो जाता है जो उस Coil के क्षेत्रफल से संबंधित होकर एक चुंबकीय फ्लक्स बनाता है और यह फ्लक्स जब दुसरे Coil से लिंक करता है तब दुसरे Coil मे एक EMF (वोल्टेज) उत्पन्न कर देता है। पहले Coil की वजह से दुसरे Coil में EMF उत्पन्न करने की इस प्रॉपर्टी को Mutual Inductance कहलाता है। 

Mutual Inductance कैसे ज्ञात किया जाता है?

किसी Coil से संबंधित म्यूच्यूअल इन्दुक्टांस को दिए गए विधुत सर्किट के मदद से ज्ञात करते है। 
mutual inductance
 माना की Coil-1 में  Iविधुत धारा प्रवाहित हो रही है। इस विधुत धारा के कारण उत्पन्न चुंबकीय फ्लक्स (𝛟) दुसरे Coil-2 से लिंक करता है। चूँकि हम जानते है की किसी भी Coil में उत्पन्न चुंबकीय फ्लक्स उस Coil में प्रवाहित होने वाली विधुत धारा के समानुपाती होता है। अतः इसे निम्न प्रकार से व्यक्त किया जा सकता है :
\phi \propto I_{1}
पहले Coil में उत्पन्न यह चुम्बकीय फ्लक्स जब दुसरे Coil से लिंक होकर उसमे EMF उत्पन्न करता है दुसरे Coil में EMF उत्पन्न करने का यह गुण Mutual inductance कहलाता है। 
पहले Coil में उत्पन्न यह फ्लक्स जब दुसरे Coil से लिंक करता है तब फैराडे के इंडक्शन सिद्धांत के अनुसार उसमे एक EMF उत्पन्न कर देता है। चूँकि पहले Coil में उत्पन्न चुंबकीय फ्लक्स उसमे प्रवाहित हो रही विधुत धारा के परिमाण पर निर्भर रहता है इसलिए दुसरे दुसरे Coil में उत्पन्न होने वाली EMF का परिमाण भी ,पहले Coil में प्रवाहित हो रही विधुत धारा के समानुपाती होगा। 

EMF = \frac{\mathrm{d} \phi }{\mathrm{d} t}

EMF \propto \frac{\mathrm{d} I_1 }{\mathrm{d} t}

यदि ऊपर के समीकरण में प्रयुक्त समानुपाती चिन्ह हो एक नियतांक M द्वारा Replace किया जाए तब यह कुछ इस प्रकार से होगा 

EMF = M\frac{\mathrm{d} I_1 }{\mathrm{d} t}

ऊपर के समीकरण में प्रयुक्त M को Mutual Inductance का गुणांक कहते है। यदि ऊपर के समीकरण को M के लिए हल करे तो यह कुछ इस प्रकार होगा 

M = \frac{EMF}{\frac{\mathrm{d} I_1 }{\mathrm{d} t}}

किसी भी दो Coil से संबंधित Mutual Inductance का परिमाण निम्न बातो पर निर्भर करता है :-

  • यह दुसरे Coil के टर्न संख्या पर निर्भर करता है। 
  • यह दोनों Coil के क्रॉस सेक्शनल एरिया पर निर्भर करता है। 
  • यह दोनों Coil के बीच जे दुरी पर निर्भर करता है। 
दो Coil के उत्पन्न Mutual Inductance को निम्न फार्मूला द्वारा ज्ञात किया जाता है :
M = \frac{N_2\phi }{I_{1}} \ henary

Mutual Inductance का उपयोग 

  • ट्रांसफार्मर म्यूच्यूअल इंडक्शन सिद्धांत पर  कार्य करता है। 
  • विधुत मोटर म्यूच्यूअल इंडक्शन पर कार्य करते है। 
  • यह डिजिटल प्रोसेसिंग में उपयोग किया जाता है। 
  • चुंबकीय क्षेत्र से जुड़े दुसरे उपकरण में इसका उपयोग किया जाता है। 

यह भी पढ़े 

Post a Comment

Subscribe Our Newsletter