-->

Armature Reaction In Hindi :- परिभाषा , प्रकार ,लाभ तथा हानि - हिंदी इलेक्ट्रिकल डायरी

Post a comment

Armature Reaction क्या होता है?

साधारण भाषा में आर्मेचर फील्ड का  मुख्य पोल फील्ड पर प्रभाव को आर्मेचर रिएक्शन कहा जाता है।  दुसरे शब्द में   बोले तो मोटर के अन्दर आर्मेचर में  लोड के कारण विधुत धारा प्रवाहित होने की वजह से आर्मेचर में चुम्बकीय   फ्लक्स उत्पन्न हो जाता है। जब यह  चुम्बकीय फ्लक्स पोल द्वारा उत्पन्न मुख्य चुम्बकीय फ्लक्स से इंटरैक्ट करता है तब इसके प्रभाव को Armature Reaction कहा जाता है। 
Armature Reaction In Hindi

Armature Reaction का प्रकार 

Armature Reaction को दो प्रकार से वर्गीकृत किया जाता है :-
  • Demagnetizing  Armature  Reaction
  • Cross Magnetizing Armature Reaction

Demagnetizing  Armature Reaction क्या होता है?

आर्मेचर में प्रवाहित विधुत धारा के कारण उत्पन्न चुंबकीय फ्लक्स जब मुख्य चुंबकीय फ्लक्स से इंटरैक्ट करता है तब मोटर या जनरेटर के अन्दर मुख्य फ्लक्स का मान या प्रभाव थोडा कम हो जाता है। जिससे आर्मेचर में उत्पन्न EMF (Voltage) भी कम हो जाता है। इस प्रकार के आर्मेचर रिएक्शन को Demagnetizing Armature Reaction कहा जाता है। 

Cross magnetizing  Armature Reaction क्या होता है?

मोटर या जनरेटर के आर्मेचर में प्रवाहित विधुत धारा के कारण उत्पन्न चुंबकीय फ्लक्स जब मुख्य चुंबकीय फ्लक्स से इंटरैक्ट करता है तब यह मुख्य पोल द्वारा उत्पन्न चुंबकीय फ्लक्स को विकृत कर देता है। विकृत करने का मतलब हुआ की चुंबकीय फ्लक्स के Waveform को बदल देता है।इससे आर्मेचर मेंउत्पन्न EMF (Voltage) की waveform भी विकृत हो जाती है। इस प्रकार के आर्मेचर रिएक्शन को Cross-magnetizing Armature Reaction कहा जाता है। 

Armature Reaction का प्रभाव

मोटर या जनरेटर में आर्मेचर रिएक्शन होने की वजह से मोटर/जनरेटर  पर निम्न प्रभाव पड़ता है :-
  • आर्मेचर रिएक्शन के कारण कार्बन ब्रश पर स्पार्किंग होती है I
  • आर्मेचर रिएक्शन के कारण डीसी जनरेटर में उत्पन्न EMF (Voltage) का मान घट जाता है I
  • आर्मेचर रिएक्शन के कारण मुख्य पोलो की चुंबकीय फ्लक्स की  शक्ति घट जाती है I
  • आर्मेचर रिएक्शन के कारण मशीन की दक्षता (Efficiency) घट जाती है I
  • आर्मेचर रिएक्शन के कारण कमयुटेटर जल्दी खराब हो जाते  हैं जिससे आर्मेचर में शार्ट सर्किट की संभावना बढ़ जाती है। 

Armature Reaction के प्रभाव को कैसे कम किया जाता है?

चूँकि Armature Reaction ,आर्मेचर में उत्पन्न चुंबकीय फ्लक्स के कारण होता है। यदि हम इस चुम्बकीय फ्लक्स के परिमाण को किसी भी प्रकार से कम कर दे तब मोटर या जनरेटर के अन्दर Armature reaction के प्रभाव को कम किया जा सकता है। मोटर या जनरेटर के आर्मेचर में उत्पन्न चुम्बकीय फ्लक्स के परिमाण को कम या कमजोर करने के लिए निम्न विधि को अपनाया जाया जाता है ;-
  • आर्मेचर रिएक्शन को कम करने के लिए कार्बन ब्रश  को सदैव MNA पर रखा जाता हैं I
  • मुख्य  फील्ड पोलो में फेरो  की संख्या बढ़ा देते हैं जिससे आर्मेचर में उत्पन्न चुम्बकीय फ्लक्स का परिमाण मुख्य पोल द्वारा उत्पन्न फ्लक्स के मान से बहुत कमजोर उत्पन्न होता है। 
  • आर्मेचर रिएक्शन को कम करने के लिए pole के सिरों को इस प्रकार व्यवस्थित करते हैं कि उनके बीच एयर गैप आ जाए जिससे चुंबकीय बल दिखाएं कोनों पर जाने के बजाए बीच से होकर जाएंगी I
  •  मुख्य पोल के अतिरिक्त एक अन्य छोटी पोल जिसे हम इंटरपोल कहते हैं  का उपयोग किया जाता है। इंटरपोल द्वारा उत्पन्न चुम्बकीय फ्लक्स ,आर्मेचर द्वारा उत्पन चुम्बकीय फ्लक्स को कमजोर कर देता है। 
  • आर्मेचर रिएक्शन को कम करने के लिए कंपनसेटिंग वाइंडिंग का प्रयोग करते हैं। Compensating winding में प्रवाहित होने वाली विधुत धारा की दिशा को आर्मेचर में प्रवाहित होने वाली विधुत धारा के विपरीत दिशा में प्रवाहित किया जाता है। 

यह भी पढ़े। 

Related Posts

Post a comment

Subscribe Our Newsletter