-->

Search Bar

Resistive, Inductive तथा Capacitive Load In Hindi - हिंदी इलेक्ट्रिकल डायरी

Post a Comment
यदि हम Electrical load को load के Nature के आधार पर विभाजित करे तो हम इसे तीन भागो में विभाजित कर  सकते है। इस ब्लॉग पोस्ट में हम तीनो प्रकार के इलेक्ट्रिकल लोड के बारे में जानेंगे। विभिन्न प्रकार के इलेक्ट्रिकल लोड के बारे में जानने से पहले हम जानते है की इलेक्ट्रिकल लोड होता क्या है:-

Electrical load क्या होता है?

अगर सरल भाषा में बोले तो कोई भी उपकरण या मशीन जो विधुत उर्जा का उपभोग कर कुछ कार्य करता है उसे हम विधुत लोड (Electrical Load) कहते है। जैसे इलेक्ट्रिक बल्ब,टीवी, रेफ्रीजिरेटर,कूलर ,पंखा ,मोटर आदि सभी इलेक्ट्रिकल लोड के श्रेणी में आते है क्योकि ये सभी विधुत उर्जा द्वारा संचालित होते है। यदि हम इलेक्ट्रिकल लोड को उसके प्रकृति के आधार पर वर्गीकृत करे तब इसे हम तीन भागो में विभाजित कर सकते है:-
  • Resistive Load
  • Inductive Load
  • Capacitive Load 

Resistive load क्या होता है?

Resistive load ऐसे इलेक्ट्रिकल  लोड होते है जो विधुत उर्जा श्रोत से केवल विधुत उर्जा ग्रहण करते है और उसे उर्जा के अन्य रूप में परिवर्तित करते है। ये विधुत उर्जा श्रोत को किसी भी प्रकार से विधुत उर्जा वापस नहीं भेजते है। Resistive लोड केवल Active Power का उपभोग करते है। Resistive लोड के वोल्टेज तथा करंट के Waveform एक ही फेज में होते है। अर्थात इसका मतलब यह हुआ की करंट तथा वोल्टेज दोनों एक ही साथ अपने शिखर मान (Peak Value)  तथा न्यूनतम मान को ग्रहण करते है। जैसे की निचे के चित्र में दिखाया गया है। 
Resistive Load In hindi

चूँकि Resistive लोड में करंट तथा वोल्टेज एक ही फेज में होते है जिसका मतलब यह हुआ की करंट तथा वोल्टेज के बीच किसी भी प्रकार का कालांतर (Phase Difference) नहीं होता है अर्थात (Φ = 0 डिग्री) इसलिए Resistive Load के लिए पॉवर फैक्टर P का मान 
 P = CosΦ = Cos(0) = 1
Resistive load के लिए Power Factor का मान एक होता है जो की बहुत बढ़िया है। 

Resistive load के उदाहरण

  • विधुत बल्ब 
  • हीटर 
  • अन्य दुसरे विधुत उर्जा उत्पन्न करने वाले विधुत उपकरण 

Resistive Load के गुण

  • ये केवल Active Power का उपयोग करते है। 
  • इनमे करंट तथा वोल्टेज के Waveform एक ही फेज में होते है। 
  • इसकी पॉवर फैक्टर हमेशा एक होता है। 
  • ये संचालन के वक्त शोर (Noise) नहीं करते है।
  • इनमे विधुत उर्जा का बहाव हमेशा विधुत उर्जा श्रोत से लोड के तरफ होता है। 
  • ये विधुत उर्जा को स्टोर नहीं करते है। 

यह भी पढ़े 


Post a Comment

Subscribe Our Newsletter