- Electric Current In Hindi - Complete Detailed - इलेक्ट्रिकल डायरी:हिंदी इलेक्ट्रिकल डायरी

Electric Current In Hindi - Complete Detailed

हमने विधुत धारा (Electric Current) शब्द बहुत सुनते है लेकिन वाकई वह क्या होता है इसको हम जानते भी नहीं है और हक़ीक़त भी यही है। विधुत धारा बारे में अधिक ज्ञान न होने का सबसे बड़ा कारण है यह किसी को दिखाई नहीं देता है।

 जो चीजे हमें दिखाई देती है उसे हम आसानी से जान लेते है लेकिन जो दिखाई न दे उसे जानना थोड़ा कठिन होता है। यदि आपको भी विधुत धारा समझ में नहीं आता है तो घबराए नहीं मैं आपके ज्ञान में वृद्धि  करने की कोशिश करता हु। 

विधुत धारा क्या होता है?(What is Electric Current?)

अगर किसी दो पात्र में पड़े आवेश के बीच विभव का अंतर हो तो उन दोनों पात्रों को आपस में किसी बाह्य चालक द्वारा जोड़े जाने पर इन आवेशों का प्रवाह उच्च विभव से निम्न विभव की तरफ होने लगता है।

 चालक से प्रवाहीत इन आवेश के दर को ही विधुत धारा कहते है। चूँकि विधुत धारा एक भौतिक राशि है इसलिए इसे मापा जा सकता है तथा संख्यात्मक रूप से इसके परिमाण को लिखा भी जा सकता है। 

जैसे की नीचे के चित्र में दिखाया गया है की एक चालक से t समय में Q आवेश प्रवाहीत हो रहे है। चूँकि विधुत धारा आवेश प्रवाह का  दर (Rate) है और Physics में दर वाली राशि को गणितीय रूप से परिमाण ज्ञात करने के लिए समय के साथ बदलने वाली राशि को समय से भाग (Divide) दिया जाता है।
electric current
आवेश का बहाव 

जैसे गति , स्थान परिवर्तन की दर होता है और इसे तय की दूरी को समय से भाग देकर ज्ञात किया जाता है। उसी प्रकार त्वरण (Acceleration) वेग परिवर्तन का दर होता है और इसे परिवर्तित वेग को समय से भाग देकर ज्ञात किया जाता है। 

इसी तरह Q कूलंब आवेश t सेकंड में किसी चालक से प्रवाहीत होता है तब चालक से प्रवाहीत विधुत धारा का परिमाण निम्न तरीके से ज्ञात किया जा सकता है :-
Electric Current Hindi
Electric Current Hindi

विधुत धारा का मात्रक (Unit For Electric Current)

हमने ऊपर देखा की विधुत धारा दो राशिओ का अनुपात है। जिसमे एक आवेश तथा दूसरा समय है। हम जानते है की आवेश का SI मात्रक Coulomb होता है जिसे शार्ट में C तथा समय का SI मात्रक सेकंड होता है जिसे शार्ट में s लिखा जाता है। अतः इन दोनों राशियों के मदद से विधुत धारा का SI मात्रक Coulomb प्रति सेकंड होगा जिसे C/s लिखा जाता है। इस C/s को एम्पेयर कहा जाता है और इसे A द्वारा दिखाया जाता है। 

विधुत धारा का मापन कैसे होता है ?

विधुत धारा का मापन अमीटर द्वारा किया जाता है। किसी इलेक्ट्रिक सर्किट से प्रवाहीत विधुत धारा को  मापने के लिए अमीटर को सर्किट  Series में जोड़ा जाता है। 

विधुत धारा का प्रकार (Types of Electric Current)

इलेक्ट्रिसिटी के खोज के समय यह मात्र एक प्रकार का होता था परन्तु आज इसे मुख्य रूप से दो भाग में बाटा गया है और ये है :-
Alternating Current (AC) 
Direct Current (DC) 

Alternating Current (AC)  

यह एक ऐसा विधुत धारा है जिसका मान समय के साथ बदलता रहता है। वैसे Alternating Current को पूर्ण से समझने के लिए इससे संबंधित अन्य पैरामीटर को समझाना पड़ेगा। Alternating Current को उत्पन्न करने के लिए जनरेटर का उपयोग किया जाता है। Direct Current को Alternating Current में बदलने के लिए इन्वर्टर का उपयोग किया जाता है। 


Direct Current (DC)  

यह एक ऐसा विधुत धारा है जिसका मान समय के साथ नहीं बदलता  है। Direct Current को हिंदी में दिष्ट धारा कहा जाता है। इसका मुख्य श्रोत बैटरी या सेल होता है। आजकल DC को Alternating Current से ही उत्पन्न कर लिया जाता  है। Direct Current को नीचे दिखाए गए ग्राफ के अनुसार दिखाया जाता है। 
Powered by Blogger.