-->

Search Bar

Inductive load In Hindi : - परिभाषा ,उदहारण तथा गुण - हिंदी इलेक्ट्रिकल डायरी

Post a Comment

Inductive load क्या होता है?

Inductive load ऐसे लोड होते है जो Reactive Power का उपभोग(Consume) करते है क्योकि Inductive load के कंडीशन में आरोपित विधुत धारा ,आरोपित वोल्टेज से पिछड़(lag) जाता है। Inductive load में जब AC वोल्टेज आरोपित किया जाता है तब ये अपने चारो तरफ एक चुम्बकीय क्षेत्र (Magnetic Field) उत्पन्न कर लेते है। Inductive load को बनाने के लिए Coil का उपयोग किया जाता है। 

Inductive load का Waveform

जैसा  हमने ऊपर बताया की जब Inductive load को AC वोल्टेज से जोड़ा जाता है तब लोड में प्रवाहित होने वाली विधुत धारा आरोपित वोल्टेज से  90 डिग्री पिछड़ जाता है। अर्थात Inductive लोड के Waveform को बनाते समय वोल्टेज के Waveform को  करंट के Waveform से 90 डिग्री आगे दिखाया जाता है।  जैसे की निचे के चित्र में दिखाया गया है:-
Inductive load

ऊपर दिए गए Waveform डायग्राम से यह ज्ञात होता है की Inductive load में जब आरोपित वोल्टेज का मान (Value) अधिकतम होता है उसी वक्त लोड से प्रवाहित होने वाली विधुत धारा का मान न्यूनतम होता है। Inductive लोड आधे समय के लिए विधुत उर्जा श्रोत (जनरेटर आदि) से विधुत उर्जा ग्रहण करते है तथा अगले आधे समय में विधुत उर्जा श्रोत को विधुत उर्जा वापस करते है अर्थात Inductive load आधे समय के लिए लोड की तरह कार्य करते है तथा अगले आधे समय के लिए विधुत उर्जा श्रोत की तरह कार्य करते है। Inductive load के इस व्यावहार की वजह से inductive load से आवाज़ निकलती है। 

Inductive load में विधुत धारा क्यों पिछड़ (Lag) जाती है?

Inductive load में विधुत धारा की पिछड़ने की मुख्य वजह लोड का चुम्बकित(magnetize) होना है। Inductive load को जब AC वोल्टेज श्रोत से जोड़ा जाता है तब उसमे विधुत का प्रवाह होने लगता है और इस विधुत धारा की वजह से लोड चुम्बकित होने लगता है जब तक लोड पूर्ण रूप से चुम्बकित नहीं हो जाता तब उससे आगे विधुत धारा प्रवाहित नहीं होता है और इसी समय अन्तराल में आरोपित वोल्टेज अपने अधिकतम मान को प्राप्त कर लेता है। 

Inductive load द्वारा उपभोग किया गया Electric Power 

यदि आरोपित वोल्टेज = V = V0Sin(ωt)

आरोपित विधुत धारा  = I = I0 Sin(ωt - 90)

तब खपत की गयी विधुत शक्ति  P 

P = V x I

P = [ V0Sin(ωt) ] [I0 Sin(ωt - 90)]

P = - [ V0I0 Sin(ωt)Cos(ωt)]

P = - (1/2) [ V0I0 Sin(ωt)Cos(ωt)]

P = (1/2) [ V0I0 Sin(2ωt)]

P = - (1/2) [ V0I0 Sin(2ωt)]

P = - [(1/2) V0I0 ] Sin(2ωt)

एक पुरे चक्र के लिए औसत पावर P 

P = - [(1/2) V0I0 ] Sin(2ωt) = P = - [(1/2) V0I0] (0 )  [ चूँकि Sinx का औसत मान शून्य होता है ]

P  = 0 

अर्थात एक  Pure Inductive load  पुरे एक समय अंतराल में किसी भी प्रकार के विधुत ऊर्जा का उपभोग नहीं करता है। 

यदि सर्किट से जुड़े लोड में विधुत धारा आरोपित वोल्टेज से 90 से कम किसी कोण (Ө)  से पिछड़े  तब लोड का पावर फैक्टर PF  = CosӨ होगा  इस परिस्थिति में लोड द्वारा उपयोग किया गया विधुत शक्ति P  निम्न फार्मूला द्वारा ज्ञात किया जायेगा 
P = Vrms Irms CosӨ

Inductive  load  के उदाहरण 

Inductive लोड  के उदाहरण निम्न है :-
  • इलेक्ट्रिक मोटर 
  • विधुत बल्ब चौक 
  • ट्रांसफार्मर 
  • पंखा 
  • वाशिंग मशीन 

Inductive load के गुण 

Inductive लोड के गन निम्न है :-
  • Inductive लोड का पावर फैक्टर एक से कम होता है। 
  • Inductive लोड का पावर फैक्टर lagging  होता है। 
  • Inductive में करंट तथा वोल्टेज Out of फेज  है। 

यह भी पढ़े 

Post a Comment

Subscribe Our Newsletter