- Difference between Alternator and Generator in Hindi - इलेक्ट्रिकल डायरी:हिंदी इलेक्ट्रिकल डायरी

Difference between Alternator and Generator in Hindi

Alternator and generator
image credit BYJU

Alternator तथा Generator दोनों ही alternating करंट (AC ) करंट उत्पन्न करते है। लेकिन इन दोनों में थोड़ा अंतर होता है। यदि आपको इस अंतर के बारे में नहीं पता है तो हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से बताएँगे।

Alternator 

अल्टरनेटर में DC supply को Rotor के साथ जोड़ा जाता है ,तब रोटर में एक मजबूत मैग्नेटिक फील्ड उत्पन्न हो जाता है। जब रोटर को घुमाया जाता है तब यह मैग्नेटिक फील्ड तथा स्टेटर के कंडक्टर के बीच आपेक्षिक जाती होने के कारण ,स्टेटर के कंडक्टर(Coil) में अल्टेरनेटिंग EMF (Voltage) उत्पन्न हो जाता है। जब इस वोल्टेज को किसी लोड से जोड़ा जाता है तब इससे Alternating Current (AC) चलने लगता है।  

Generator 

जनरेटर में DC सप्लाई को स्टेटर के कंडक्टर (Coil) से जोड़ा जाता है,जिससे स्टेटर में एक स्ट्रांग मैग्नेटिक फील्ड उत्पन्न हो जाता है। जब  रोटर को घुमाया जाता है तब मैग्नेटिक फील्ड तथा रोटर के कंडक्टर (Coil)के बीच आपेक्षिक गति होने के कारण रोटर के Coil में Alternating EMF (वोल्टेज) उत्पन्न हो जाता है। जब रोटर के Coil में उत्पन्न हुए वोल्टेज को स्लिप रिंग के मदद से किसी लोड से जोड़ा जाता है तब लोड में एक Alternating Current (AC) चलने लगता है। 
Powered by Blogger.